Monthly Archives: October 2015

आ तेरी उम्र मैं लिख दूँ चाँद सितारों से;

आ तेरी उम्र मैं लिख दूँ चाँद सितारों से;
तेरा जन्मदिन मैं मनाऊँ फूल-बहारों से;
हर एक ख़ूबसूरती दुनिया से मैं ले आऊं;
सजाऊँ ये महफ़िल दुनिया के हसीन नज़ारों से।
जन्मदिन मुबारक!

पास चाहे दूर जहाँ भी रहो तुम;

पास चाहे दूर जहाँ भी रहो तुम;
मेरी दुआयें रहेंगी साथ तुम्हारे हर दम;
हो खुशियों का बसेरा तुम्हारे लिए;
बस यही दुआ है आपके लिए।
जन्मदिन मुबारक!